Maa Brahmacharini Vrat Katha and Pujan Vidhi

माता ब्रह्मचारिणी की व्रत कथा और पूजा विधि || Maa Brahmacharini Vrat Katha and Pujan Vidhi

व्रत कथा

नवरात्रि का दूसरा दिन || Second day of Navratri

माता ब्रह्मचारिणी की व्रत कथा || Maa Brahmacharini Vrat Katha

 

दधाना करपद्माभ्यामक्षमालाकमण्डलू।

देवी प्रसीदतु मयि ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा ।।

 

दुर्गा जी की नौ शक्तियों में दूसरा स्वरूप ब्रह्मचारिणी का है। नवरात्रि (Navratri) में दूसरे दिन माँ ब्रह्मचारिणी की पूजा की जाती है। ब्रह्मचारिणी नाम में ‘ब्रह्म’ शब्द का अर्थ तपस्या है। इस प्रकार ब्रह्मचारिणी का अर्थ तप की चारिणी अर्थात तप का आचरण करने वाली। कहा भी है- वेदस्तत्त्वं तपो ब्रह्म-वेद, तत्त्व और तप ‘ब्रा’ शब्द के अर्थ हैं। ब्रह्मचारिणी देवी का स्वरूप अत्यन्त भव्य एवं पूर्ण ज्योतिर्मय है। देवी ब्रह्मचारिणी के बायें हाथ में कमण्डल और दाहिने हाथ में तपस्या के लिए माला है। अपने पूर्व जन्म में जब ये हिमालय राज के घर पुत्री के रूप में उत्पन्न हुई थी तब नारद जी द्वारा दिये उपदेश से इन्होंने भगवान् शंकर जी को पति रूप में प्राप्त करने के लिये अत्यन्त कठोर तपस्या की। इसी कठोर तपस्या के कारण इन्हें ब्रह्मचारिणी नाम से जाना गया।

मॉ एक हजार साल केवल फल-मूल खाकर तपस्या की थी। फिर सौ सालों तक केवल शाक खाकर जीवन यापन किया। बहुत दिनों तक कठोर उपवास करते हुए खुले आकाश के नीचे बारिस और धूप में भयंकर कष्ट सह किये इतनी कठोर तपस्या करने के बाद तीन हजार सालों तक मॉ ने केवल पेडो से धरती पर टूटकर गिरे हुए बेलपत्रों को खाकर वह भगवान् शंकर की पूजा अर्चना करती रहीं। फिर कुछ समय के पश्चात उन्होंने पेड से गिरे सूखे बेलपत्रों को भी खाना बन्द कर दिया। इस प्रकार हजारों सालो तक उन्होने बिना कुछ खाये और बिना कुछ पिये कठोर तपस्या करती रहीं। पत्तों (पर्ण) को भी खाना छोड़ देने के कारण उनका एक नाम ‘अपर्णा’ भी पड़ गया।

इस प्रकार हजारो से कठोर तपस्या करने के कारण देवी ब्रह्मचारिणी के पूर्व जन्म का शरीर दूबला पतला और एकदम क्षीण हो गया। उनकी यह निर्बल दशा देखकर उनकी माता मैना को बहुत दुख हुआ। माता मैना ने उनकी इस कठोर तपस्या से बाहर निकालने के लिए उन्हे आवाज दी ‘उमा’, अरे! नहीं, ओ! नहीं!’ तभी से ब्रह्मचारिणी देवी को ‘उमा’ नाम से जाना गया।

देवी को इस तरह कठोर तपस्या करते देख तीनों लोकों में हाहाकार मच गया। देवता, ऋषि, मुनि और पुण्य आत्माये सभी देवी ब्रह्मचारिणी की तपस्या की प्रशंसा करने लगे कि ऐसी तपस्या करना बहुत ही पुण्य कर्म है और आज से पहले किसी ने भी इतनी कठोर तपस्या नही की है। और अन्त में ब्रह्मा जी ने आकाश में प्रकट होकर देवी ब्रह्मचारिणी से बहुत प्रसन्न होकर कहा कि ‘हे देवि! आज तक किसी ने भी इतनी कठोर तपस्या नहीं की है। इतनी कठोर तपस्या करना तो केवल तुम्हीं से सम्भव है। देवी तुम्हारे इस परम पवित्र और अलौकिक कार्य की चर्चा चोरों दिशाओ मे हो रही है। तुम्हारी मनोकामना अवश्य पूर्ण होगी। भगवान् शंकर से ही तुम्हारा विवाह होगा और वही तुम्हें पति रूप प्राप्त होंगे। अब तुम तपस्या को खत्म कर अपने घर लौट जाओ। बहुत जल्द तुम्हारे पिता तुम्हें बापस घर ले जाने आ रहे हैं।

माँ दुर्गा जी का यह दूसरा स्वरूप ब्रह्मचारिणी सभी भक्तों और सिद्ध लोगो को अनन्त फल देने वाला है। माता ब्रह्मचारिणी की व्रत कथा (Maa Brahmacharini Vrat Katha) सुनने मात्र से मनुष्य में तप, संयम, सदाचार, वैराग्य और त्याग की वृद्धि होती है। जीवन के कठिन से कठिन संघर्षों में भी उसका मन विचलित नहीं होता और वह अपने कर्तव्य पथ पर डटे रहते है। मां ब्रह्मचारिणी देवी की पूजा करने से सर्वत्र सिद्धि और विजय का आशिर्वाद प्राप्त होता है। नवदुर्गा पूजा के दूसरे दिन इन्हीं मां ब्रह्मचारिणी देवी के स्वरूप की पूजा की जाती है। इस दिन साधक और साधू अपना ध्यान ‘स्वाधिष्ठान’ चक्र में स्थित करते है। इस चक्र में ध्यान धरने वाला योगी मां ब्रह्मचारिणी देवी की कृपा और भक्ति प्राप्त करता है।

ये भी पढें- Durga Chalisa in Hindi || दुर्गा चालीसा : हिन्दी अर्थ सहित

 

 ब्रह्मचारिणी माता व्रत पूजा विधि ॥  Maa Brahmacharini Vrat Puja Vidhi

* सुबह ब्रहम महुर्त में उठ जाये फिर अपने नित्यकर्मों को करने के बाद स्नान कर साफ और स्वच्छ कपडे धारण करें। – अब एक आसन पर बैठकर मां ब्रह्मचारिणी की विधि विधान से पूजन करें।

* मां ब्रह्मचारिणी को सर्वप्रथम फूल चढाये फिर अक्षत, रोली और चंदन आदि अर्पित करें। मां को दूध, दही, घृत, मधु व शर्करा से स्नान कराएं। मां को भोग लगाएं। मां ब्रह्मचारिणी को पिस्ते की मिठाई का भोग लगाये तो बहुत अच्छा है।

* फिर उन्हें पान, सुपारी और लौंग अर्पित करें। फिर वही आसन पर बैठकर मां के मंत्रों का जाप करें और आरती करें। स्वच्छ ह्रदय से मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करने वाले मनुष्य को कठिन से कठिन परिस्थिति में भी संयम रखने की शक्ति प्राप्त होती हैं।

* मां ब्रह्मचारिणी का मंत्र:

1. या देवी सर्वभेतेषु मां ब्रह्मचारिणी रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।
दधाना कर मद्माभ्याम अक्षमाला कमण्डलू। देवी प्रसीदतु मयि ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा।।।

2. ब्रह्मचारयितुम शीलम यस्या सा ब्रह्मचारिणी, सच्चीदानन्द सुशीला च विश्वरूपा नमोस्तुते..

3. ओम देवी ब्रह्मचारिण्यै नमः॥

4. मां ब्रह्मचारिणी का स्रोत पाठ: तपश्चारिणी त्वंहि तापत्रय निवारणीम्।
ब्रह्मरूपधरा ब्रह्मचारिणी प्रणमाम्यहम्॥
शंकरप्रिया त्वंहि भुक्ति-मुक्तिदायिनी।
शान्तिदा ज्ञानदा ब्रह्मचारिणीप्रणमाम्यहम्॥

 

ये भी पढें-  माता ब्रह्मचारिणी आरती || Maa Brahmacharini Aarti in Hindi

ये भी पढें- Ambe Mata Ki Aarti: दुर्गा जी की आरती ॥ Jai Ambe Gauri Maiya, Jaa Shyama Gauri

 

Prabhu Darshan- 100 से अधिक आरतीयाँचालीसायें, दैनिक नित्य कर्म विधि जैसे- प्रातः स्मरण मंत्र, शौच विधि, दातुन विधि, स्नान विधि, दैनिक पूजा विधि, त्यौहार पूजन विधि आदि, आराध्य देवी-देवतओ की स्तुति, मंत्र और पूजा विधि, सम्पूर्ण दुर्गासप्तशती, गीता का सार, व्रत कथायें एवं व्रत विधि, हिंदू पंचांग पर आधारित तिथियों, व्रत-त्योहारों जैसे हिंदू धर्म-कर्म की जानकारियों के लिए अभी डाउनलोड करें प्रभु दर्शन ऐप।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.