Controversy on Shiva's GIF on Instagram

Instagram ने भगवान शिव के हाथ में दिखाया वाइन का ग्लास, बीजेपी नेता ने दर्ज कराई FIR

भारत राजनीति

आजकल सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म (social media platform) का हर कोई इस्तेमाल करता है। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म की पकड़ ना सिर्फ शहरों में है बल्कि इसका क्रेज गांव तक पहुंच चुका है। सोशल मीडिया (social media ) के माध्यम से लोग घर बैठे भी अपनी पहचान बना रहे हैं, इसके साथ ही ये आमदनी का जरिए भी बन गया है। इंटरनेट पर कई तरह के सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म लोगों के लिए उपलब्ध है, जिसमें से एक है इंस्टाग्राम (Instagram)। इंस्टाग्राम (Instagram) को लोग काफी पसंद कर रहे है, लेकिन यही सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म अब विवादों में घिर गया है। दिल्ली में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम (instagram) के खिलाफ मंगलवार को भाजपा नेता मनीष सिंह (BJP leader Manish Singh) द्वारा एफआईआर (FIR) दर्ज कराई गई है। हिंदुओं की भावनाओं को आहत पहुंचाने के लिए दिल्ली के नेता मनीष सिंह ने इंस्टाग्राम (Instagram) पर केस दर्ज करवाया है। शिकायत में मनीष सिंह का कहना है कि इंस्टाग्राम ने भगवान शिव (Lord Shiva) का जीआईएफ (GIF) बनाया है, जो महादेव को अपमानजनक तरीके से दिखा रहा है। शिकायतकर्ता ने इंस्टाग्राम के सीईओ और अन्य पदाधिकारियों के खिलाफ यह मामला दर्ज कराया है। जो GIF भगवान शिव का सामने आया है, उसमें भगवान शिव के हाथ में वाइन (Wine) जैसे दिखने वाला एक गिलास है और दूसरे हाथ में मोबाइल फोन दिखाया गया है, जिसके बाद दिल्ली पुलिस (Delhi Police) में इसकी एफआईआर (FIR) दर्ज की गई है।

ये भी पढें-  सचिन तेंदुलकर से पहले इस खिलाङी ने लगाया था दोहरा शतक || Double Century Cricket Player

इंस्टाग्राम स्टोरी अपलोड करते वक्त किया था शिव GIF सर्च, दिखा महादेव का आपत्तिजनक स्टिकर

शिकायतकर्ता ने अपनी शिकायत में कहा कि वह अपनी इंस्टाग्राम स्टोरी (Instagram story) अपलोड कर रहे थे। स्टोरी अपलोड करने के दौरान वह जीआईएफ (GIF) लगा रहे थे तो उन्होंने शिव कीवर्ड (Shiv Keyword) को सर्च किया, जिसके बाद उन्हें महादेव का आपत्तिजनक GIF दिखाई दिया। किसी यूजर द्वारा ये GIF प्रोवाइड नहीं किया गया है, बल्कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम (Instagram) ने ही दिया है। उन्होंने आगे कहा कि जीआईएफ को बनाने के पीछे का मकसद हिंदुओं (Hindu’s) की भावनाओं को आहत करना है इसलिए मेरे द्वारा इंस्टाग्राम के सीईओ और अन्य अधिकारियों के खिलाफ एफ आई आर दर्ज कराई गई है और जीआईएफ खेल को लेकर शिकायत की गई है।

 

केंद्र सरकार ने जारी की थी सोशल मीडिया के लिए गाइडलाइन, रखी थी ये बात

बता दें कि 25 फरवरी को सोशल मीडिया (Social Media) के लिए केंद्र सरकार (Central Government) द्वारा नई गाइडलाइन जारी की गई थी, जिसमें कहा गया था कि यूजर द्वारा जो भी कंटेंट प्लेटफार्म पर डाला जाता है उसके लिए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म भी जिम्मेदार होगा। यदि कोई देश की अखंडता, सुरक्षा के खिलाफ कोई पोस्ट या ट्वीट करता है तो उसके ओरिजनेटर यानी कि पहली बार जिसने उसे पोस्ट को किया है उसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को वार्निंग देनी होगी। वहीं अगर किसी भी पोस्ट को लेकर कोई अधिकारी अपनी चिंता सामने रखता है तो 36 घंटे के अंदर ही उस पोस्ट को डिलीट करना होगा। वही आपत्तिजनक पोस्ट और ट्वीट (Offensive posts and tweets) के खिलाफ शिकायतों को लेकर भारत में भी एक अधिकारी की नियुक्ति करनी होगी जो 24 घंटे के अंदर ही उस शिकायत पर ध्यान देगा और 15 दिन के अंदर शिकायत का निवारण करके उस केस को क्लोज कर देगा।

ये भी पढें-  सेंधा नमक में होते है चमत्कारी गुण, शरीर के लिए होता है फायदेमंद || Benefits of Rock Salt in Hindi

अमेजन (Amazon) को लेकर भी मचा था बवाल, #BoycottAmazon ट्विटर पर जमकर हुआ था ट्रेंड

यह पहली बार नहीं हुआ है जब सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर आपत्तिजनक पोस्ट या प्रोडक्ट बेचने का मामला सामने आया हो। ना सिर्फ सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म बल्कि ऑनलाइन शॉपिंग पोर्टल्स (Online Shopping Portals) भी अपने द्वारा बेचे जा रहे हैं आपत्तिजनक उत्पादों को लेकर विवाद में फस चुके हैं। बता दें कि हाल ही में अमेजॉन (Amazon) को बॉयकॉट (Boycott) करने की मांग उठी थी और इसको लेकर ट्विटर (Twitter) पर हैशटैग बॉयकॉट अमेज़न (#BoycottAmazon) काफी  ट्रेंड भी किया था। दरअसल अमेज़न(Amazon) द्वारा कर्नाटक के झंडे (Karnataka Flag) के रंग वाली बिकनी (Bikni) बेची जा रही थी, जिस पर लोगों ने काफी आपत्ति जाहिर की था। वही विवाद को बढ़ता देख अमेज़न (Amazon) द्वारा इस प्रोडक्ट को हटा दिया गया था।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.