Maa Katyayani Mata ki Aarti in Hindi

माँ कात्यायनी माता की आरती || Maa Katyayani Mata ki Aarti in Hindi

आरती

 माँ कात्यायनी  आरती || Maa Katyayani Mata ki Aarti in Hindi

 

जय कात्यायनि मां, मैया जय कात्यायनि मां।
उपमा रहित भवानी, दूं किसकी उपमा॥

मैया जय कात्यायनि, गिरजापति शिव का तप, असुर रम्भ कीन्हां।
वर-फल जन्म रम्भ गृह, महिषासुर लीन्हां॥

मैया जय कात्यायनि, कर शशांक-शेखर तप, महिषासुर भारी।
शासन कियो सुरन पर, बन अत्याचारी॥

मैया जय कात्यायनि, त्रिनयन ब्रह्म शचीपति, पहुंचे अच्युत गृह।
महिषासुर बध हेतु, सुर कीन्हौं आग्रह॥

मैया जय कात्यायनि, सुन पुकार देवन मुख, तेज हुआ मुखरित।
जन्म लियो कात्यायनि, सुर-नर-मुनि के हित॥

मैया जय कात्यायनि, अश्विन कृष्ण-चौथ पर, प्रकटी भवभामिनि,
पूजे ऋषि कात्यायन, नाम काऽऽत्यायिनि॥
मैया जय कात्यायनि, अश्विन शुक्ल-दशी को, महिषासुर मारा॥

॥ Maa Katyayani Mata ki Aarti in Hindi Ends॥

 

इसे भी पढें-  माता कूष्माण्डा की व्रत कथा और पूजा विधि || Maa Kushmanda Vrat Katha and Pujan Vidhi in Hindi

 

Maa Katyayani Mata Aarti In English  – Lyrics ( jay kaatyaayani maa, maiya jay kaatyaayani maa)

 

jay kaatyaayani maan, maiya jay kaatyaayani maan।
upama rahit bhavaanee, doon kisakee upama॥

maiya jay kaatyaayani, girajaapati shiv ka tap, asur rambh keenhaan।
var-phal janm rambh grh, mahishaasur leenhaan॥

maiya jay kaatyaayani, kar shashaank-shekhar tap, mahishaasur bhaaree।
shaasan kiyo suran par, ban atyaachaaree॥

maiya jay kaatyaayani, trinayan brahm shacheepati, pahunche achyut grh।
mahishaasur badh hetu, sur keenhaun aagrah॥

maiya jay kaatyaayani, sun pukaar devan mukh, tej hua mukharit।
janm liyo kaatyaayani, sur-nar-muni ke hit॥

maiya jay kaatyaayani, ashvin krshn-chauth par, prakatee bhavabhaamini।
pooje rshi kaatyaayan, naam kaatyaayini॥
maiya jay kaatyaayani, ashvin shukl-dashee ko, mahishaasur maara॥

॥ Maa Katyayani Mata ki Aarti Ends ॥

 

इसे भी पढें-  Durga Chalisa in Hindi || दुर्गा चालीसा : हिन्दी अर्थ सहित 

इसे भी पढें- Ambe Mata Ki Aarti: दुर्गा जी की आरती ॥ Jai Ambe Gauri Maiya, Jaa Shyama Gauri

 

आप माँ कात्यायनी माता की आरती (Maa Katyayani Mata ki Aarti in Hindi) के लिए Prabhu Darshan मोबाईल ऐप डाउनलोड कर सकते है और जब कभी आपको जाप करने का मन करे तो आप बिना इंटरनेट कनेक्शन के भी पूजा पाठ कर सकते हैं।

 

Prabhu Darshan- 100 से अधिक आरतीयाँचालीसायें, दैनिक नित्य कर्म विधि जैसे- प्रातः स्मरण मंत्र, शौच विधि, दातुन विधि, स्नान विधि, दैनिक पूजा विधि, त्यौहार पूजन विधि आदि, आराध्य देवी-देवतओ की स्तुति, मंत्र और पूजा विधि, सम्पूर्ण दुर्गासप्तशती, गीता का सार, व्रत कथायें एवं व्रत विधि, हिंदू पंचांग पर आधारित तिथियों, व्रत-त्योहारों जैसे हिंदू धर्म-कर्म की जानकारियों के लिए अभी डाउनलोड करें प्रभु दर्शन ऐप।

Spread the love

40 thoughts on “माँ कात्यायनी माता की आरती || Maa Katyayani Mata ki Aarti in Hindi

  1. Jai mata di apna aashirvaad banaaye rakhna jo bhi mene mnga aapne sb kuch diya h thnku so much maa 🙏🙏❤❤😘😘😍😍

  2. माँ मेरे पापो को क्षमा करो माँ मेरी सादी हो जाए दया करो माँ।

  3. Jai maa katyani apna aashirvaad banaye rakhna mene jo mnga h aapne sb kuch diya h thanku so much maa 🙏🙏🙏🙏🙏❤❤❤❤❤❤

  4. Kaun kaun ye arti navratri me pad raha h vo comment kare 😘
    Wish all six navratri happy navratri ❤️🙏🙏🙏

  5. Maa ap is dunia m sbhi ko khus rkhna jo glt rste p h unhe shi rsta dikhana sbhi ko khus rkhna sbki manokamnae puri krna maa plz🙏😌

  6. Jai Maa Katyayani ji ki🙏🙏😘😘😘😘😘😘😘❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘😘❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️😘😘😘😘😘😘😘😘😘❤️❤️❤️😘😘😘❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️

  7. चंद्र हासोज्ज वलकरा शार्दू लवर वाहना
    कात्यायनी शुभं दद्या देवी दानव घातिनि
    देवी कात्यायनी की आरती:
    जय जय अंबे जय कात्यायनी ।
    जय जगमाता जग की महारानी ।।
    बैजनाथ स्थान तुम्हारा।
    वहां वरदाती नाम पुकारा ।।
    कई नाम हैं कई धाम हैं।
    यह स्थान भी तो सुखधाम है।।
    हर मंदिर में जोत तुम्हारी।
    कहीं योगेश्वरी महिमा न्यारी।।
    हर जगह उत्सव होते रहते।
    हर मंदिर में भक्त हैं कहते।।
    कात्यायनी रक्षक काया की।
    ग्रंथि काटे मोह माया की ।।
    झूठे मोह से छुड़ानेवाली।
    अपना नाम जपानेवाली।।
    बृहस्पतिवार को पूजा करियो।
    ध्यान कात्यायनी का धरियो।।
    हर संकट को दूर करेगी।
    भंडारे भरपूर करेगी ।।
    जो भी मां को भक्त पुकारे।
    कात्यायनी सब कष्ट निवारे।।

  8. Jay Maa Kattyayani Mahamaye Shrishtikarini he Shive prani ki Swamini Aapko bhaktibhaw se pranam karti Hun.

Leave a Reply

Your email address will not be published.