Assam Chief Minister 2021

Assam Chief Minister 2021 बने हिमंत विस्वा शर्मा

भारत राजनीति

असम में हुए Election में BJP की भारी मतो से जीत हुई, लेकिन जीत के बाद पार्टी यह तय नहीं कर पा रही थी कि अब अगला Assam Chief Minister 2021 किसे बनाया जाए। असम (Assam) में BJP दूसरी बार अपनी सरकार बनाने जा रही है और यह काफी सोचने वाली हो गई थी कि आखिर असम में मुख्यमंत्री के पद के लिए किस उम्मीदवार को चुना जाए। दरअसल पार्टी के पास Assam Chief Minister 2021 पद के लिए दो दिग्गज candidate थी एक हिमंत विस्वा शर्मा (Himanta Viswa Sharma) और दूसरे सर्वनंदा सोनोवाल। सर्वनंदा सोनोवाल ने पूरे पांच साल तक Assam Chief Minister बन कर रहे लेकिन साथ ही साथ हिमंत विस्वा शर्मा (Himanta Viswa Sharma) के योगदान को अनदेखा नही किया जा सकता है। उन्होने पार्टी की रैलियो से लेकर पार्टी को असम सें दोबारा जीत दिलाने तक बहुत महत्वपूर्ण भुमिका निभाई है। आश्चर्य की बात है न कि बंगाल में BJP के हार का एक कारण यह रहा की उनके पास Chief Minister पद के लिए ममता बनर्जी को टक्कर देने वाला कोई candidate नही था और वहीं दूसरी तरफ असम में दो दिग्गज है और यह तय कर पाना मुश्किल हो रहा है कि Chief Minister किसे बनाया जाए। काफी चर्चा के बाद हिमंत विस्वा शर्मा (Himanta Viswa Sharma) को Chief Minister पद के लिए चुना गया है।

इसे भी पढें-   Bihar Ambulance Controversy: रूडी बोले, एंबुलेंस हैं, ड्राइवर नहीं तो पप्पू यादव ने करा दी ड्राइवरों की परेड

कौन है हिमंत विस्वा शर्मा(Himanta Viswa Sharma), जिसे Assam Chief Minister 2021 चुना गया है?

हिमंत विस्वा शर्मा (Himanta Viswa Sharma) का जन्म असम के जोराहाट में 1969 में हुआ था। राजनीति से जुङने से पहले तक वह Cotton University के महासचिव रह चुके है। हिमंत विस्वा शर्मा (Himanta Viswa Sharma) को खेलो में काफी रुची थी और साल 2016 में उन्हे असम Cricket Association का अध्यक्ष चुना गया था। इसके बाद साल 2017 में उन्हे badminton Association अध्यक्ष के रुप में निर्वाचित किया गया था।

राजनीति की बात करे तो हिमंत विस्वा शर्मा साल 2001-2015 तक राजनीति में कांग्रेस के लिए काम करते रहे। इतना ही नहीं 2011 में कांग्रेस की जीत में हिमंत विस्वा शर्मा (Himanta Viswa Sharma) का सबसे महत्वपूर्ण योगदान रहा। वे करीबन 15 साल तक असम के जालुकबारी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को जीत दिलाते रहे। लेकिन इसके बाद कांग्रेस पार्टी ने उनको तवज्जो नही दिया और इस रवैय्या के कारण वे कांग्रेस छोङ कर BJP में शामिल हो गये। साल 2016 के असम election में BJP सत्ता में आई और BJP को असम में लाने में हिमंत विस्वा शर्मा का बहुत बङा योगदान रहा। हिमंत विस्वा शर्मा (Himanta Viswa Sharma) के BJP में शामिल होते ही, पार्टी को सर्वनंद सोनोवाल के साथ साथ एक और तेजस्वी नेता मिल गया था। एक तरफ सर्वनंदा सोनोवाल के कठिन परिश्रम के वजह से असम मे BJP को बहुत अच्छा response मिला तो वहीं हिमंत के वजह से पार्टी दोगुना मजबूत हो गई तिसके वजह से BJP कांग्रेस को असम से बेदखल करने में सक्षम रही।

इस बार के election में भी हिमंत जाकुलबारी से ही चुनाव लङे थे और कांग्रेस के रामेन चन्द्र बोरठाकुर को 101911 वोटों से हरा कर अलग ही रिकार्ड कायम कर दिया। असम की जाकुलबारी से हिमंत विस्वा शर्मा (Himanta Viswa Sharma) लगातार पाँचवी बार विधायक बने थे। इतना ही नही असम में कोरोना की हालत को सुधारने में भी इलका अहम भुमिका रहा।

साल 2015 में BJP से जुङने के बाद हिमंत शर्मा ने केवल असम ही नही बल्कि पार्टी को अन्य राज्यों में भी सरकार बनाने में बहुत मदद की। और आज के दौर में हिमंत विस्वा शर्मा केवल असम ही नही बल्कि पूर्वोत्तर राज्यों का भी एक अहम चेहरा बन चुके है। इन्हे इनकी इसी काबिलियत के वजह से पूर्वोत्तर का चाणक्य भी कहा जाता है। इस साल वापस से BJP के असम में सरकार बनाने में इन्होने पार्टी का बहुत साथ दिया।

इसे भी पढें-   UP Panchayat Chunav Result 2021: यूपी में बीजेपी के लिए खतरे की घंटी बज गई!

असम में वापस से BJP की सरकार बनने के बाद पार्टी में chief minister पद के लिए बहुत सोच विचार किया गया। BJP अध्यक्ष ने इस बारे में विचार विमर्श करने के लिए अपने घर में meeting भी रखी और अन्त में हिमंत विस्वा शर्मा (Himanta Viswa Sharma)  को Assam Chief Minister 2021 बनाने का निर्णय लिया गया। सोनोवाल ने अपना स्तीफा राज्यपाल को सौंप दिया है। हिमंत विस्वा शर्मा जिस भी पार्टी में रहे वहां उन्होने अपना पूरा योगदान दिया और इसी योगदान के वजह से आज उन्हे असम के मुख्यमंत्री नियुक्त किये गये है। यह कहना गलत नही होगा की केवल BJP ही नही बल्कि पूरे देस को हिमंत विस्वा शर्मा जैसे नेता की जरुरत है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.